लगती है चोट दिल पर आता है याद जिस दम,
शबनम के आंसुओं पर कलियों का मुस्कराना;
वो प्यारी-प्यारी सूरत वो कामिनी-सी मूरत,
आबाद जिसके दम से था मेरा आशियाना!
~ Allama Iqbal
Picture SMS 102341
आज वस्ले-यार की तदवीर हमने की तो है,
हो न हो, पर कोशिशे-तकदीर हमने की तो है;
जी डरे है, काग़जे-कासिद न जल जाएं कहीं,
सोजिशे-दिल', खत में कुछ तहरीर हमने की तो है!
~ Bahadur Shah Zafar
Picture SMS 102340
कब ठहरेगा दर्द ऐ दिल कब रात बसर होगी;
सुनते थे वो आएँगे सुनते थे सहर होगी!
Picture SMS 102314
आता है याद मुझको गुज़रा हुआ ज़माना,
वो बाग की बहारें वो सब का चहचहाना;
आज़ादियां कहां वो सब अपने घोंसले की,
अपनी खुशी से आना अपनी ख़ुशी से जाना!
~ Allama Iqbal
Picture SMS 102313
कहां तक चुप रहूँ, चुपके रहने से कुछ नहीं होता,
कहूँ तो क्या कहूँ उनसे, कहे से कुछ नहीं होता;
नहीं मुमकिन कि आए रहम उनको ऐ जफर मुहा पर,
सहूँ जसके सितम क्या में, सहे से कुछ नहीं होता!
~ Bahadur Shah Zafar
Picture SMS 102312
इश्क़ भी हो हिजाब में हुस्न भी हो हिजाब में;
या तो ख़ुद आश्कार हो या मुझे आश्कार कर!
~ Allama Iqbal
Picture SMS 102298
खुदी को कर बुलन्द इतना कि हर तक़दीर से पहले;
ख़ुदा बन्दे से खुद पूछे, बता तेरी रज़ा क्या है!
~ Allama Iqbal
Picture SMS 102297
लगता नहीं है दिल मेरा उजड़े दयार में,
किसकी बनी है आलमे नापायदार में;
बुलबुल को बागवां से न सैय्याद से गिला,
किस्मत में कैद लिखी थी, फसले बहार में!
~ Bahadur Shah Zafar
Picture SMS 102296
सीढ़ियाँ उनके लिए बनी हैं जिन्हें छत पर जाना है;
लेकिन जिनकी नज़र आसमान पर हो उन्हें तो रास्ता ख़ुद बनाना है!
Picture SMS 102239
हजारों साल नर्गिस अपनी बेनूरी पे रोती है;
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदा-वर पैदा!
~ Allama Iqbal
Picture SMS 102238
Analytics