अगर तुम ना होते, तो टूट के बिखर जाते,
गर तुम पास होते, तो इतना भी ना टूटते!
Picture SMS 96911
न इब्तिदा की ख़बर है न इंतिहा मालूम;
रहा ये वहम कि हम हैं सो वो भी क्या मालूम!
Picture SMS 96874
हमसे खेलती रही दुनिया ताश के पत्तों की तरह,
जिसने जीता उसने भी फेंका और जो हारा उसने भी फेंका!
Picture SMS 96873
गज़ब की धूप है इस शहर में फिर भी पता नहीं;
लोगों के दिल यहाँ, पिघलते क्यों नहीं।
Picture SMS 96800
क्यों डरे कि ज़िन्दग़ी में क्या होगा, हर वक़्त क्यों सोचे कि बुरा होगा;
बढ़ते रहे बस मंज़िलो की ओर, हमे कुछ मिले या ना मिले, तज़ुर्बा तो नया होगा!
~ Javed Akhtar
Picture SMS 96799
परख से कब जाहिर हुई शख्सियत किसी की;
हम तो बस उन्हीं के हैं, जिन्हें हम पर यकीन है!
Picture SMS 96765
करो फिर से कोई वादा कभी न बिछड़ने का,
तुम्हें क्या फर्क पड़ता है फिर से मुकर जाना!
Picture SMS 96764
आते हैं आने दो ये तूफ़ान क्या ले जाएंगे;
मैं तो जब डरता कि मेरा हौसला ले जाएंगे!
~ Wasim Barelvi
Picture SMS 96743
होता है फख्र देख के अक्सर ही आईना;
मैंने कभी ज़मीर का सौदा नहीं किया!
Picture SMS 96742
ख़िज़ां की रुत में गुलाब लहजा बनाके रखना, कमाल ये है;
हवा की ज़द पे दिया जलाना, जला के रखना, कमाल ये है!

ख़िज़ां - पतझड़
~ Mubarak Siddiqui
Picture SMS 96738
Analytics