मेरी हैसीयत से ज्यादा मेरी थाली मे तूने परोसा है;
तू लाख मुश्किलें भी दे दे मालिक, मुझे तुझपे भरोसा है!
Picture SMS 102045
यूँ ही नहीं होती हाथ की लकीरों के आगे उँगलियाँ;
रब ने भी किस्मत से पहले मेहनत लिखी है!
Picture SMS 98055
सामने है जो उसे लोग बुरा कहते हैं;
जिस को देखा ही नहीं उस को ख़ुदा कहते हैं!
~ Sudarshan Faakir
Picture SMS 95625
हम लोग भी कितने अजीब हैं;
निशानियाँ महफ़ूज़ रखते हैं, और लोगों को खो देते हैं!
Picture SMS 87844
Analytics