अपनी पीड़ा सह लेना और दूसरे जीवों को पीड़ा न पहुंचाना, यही तपस्या का स्वरूप है|
~ Saint Thiruvalluvar
Picture SMS 93134
ब्रह्माज्ञानी को स्वर्ग तृण है, शूर को जीवन तृण है, जिसने इंद्रियों को वश में किया उसको स्त्री तृण-तुल्य जान पड़ती है, निस्पृह को जगत तृण है!
~ Chanakya
Picture SMS 93068
मेरे जनरेशन की सबसे बड़ी खोज यह है कि एक इंसान अपना ऐटीट्यूड बदलकर अपनी लाइफ बदल सकता है!
~ William James
Picture SMS 92366
अगर आप अपनी यादाश्त की परीक्षा लेना चाहते हैं तो आज ये याद करने की कोशिश करिए कि लगभग एक साल पहले आप किस चीज को लेकर चिंतित थे|
~ E. Joseph Cossman
Picture SMS 92107
अपने पैरो को उतना ही फैलावो, जितनी लम्बी चादर हो|
~ Rakesh Mishra
Picture SMS 91976
ज्ञान गाय के समान है, जो हर एक मौसम में अमृत प्रदान करती है| वह विदेश में माता के समान रक्षक और हितकारी होती है, इसीलिए ज्ञान को गुप्त धन कहा जाता है |
~ Chanakya
Picture SMS 91956
एक पेड़ अपने ऊपर गर्मी सहता है, लेकिन अपनी छाया से दूसरो की गर्मी को हरता है |
~ Acharya Tulsidas
Picture SMS 91928
इंजीनियरिंग केवल 45 विषयों का अध्ययन नहीं है बल्कि यह बौद्धिक जीवन का नैतिक अध्ययन है।
~ Prakhar Srivastav
Picture SMS 91881
इस समाज में मौत इतनी महत्वपूर्ण है कि यह सब कुछ प्रभावित करती है, मैंने अपने गुरु से सीखा है कि मृत्यु दुश्मन नहीं है, और मै इसे एक और रूप में देख रहा हूं। यह अवतार का अंत है|
~ Ram Dass
Picture SMS 91588
अगर भगवान अस्तित्व में नहीं था, तो उसे खोजना होगा!
~ Voltaire
Picture SMS 91484
Analytics