बदन पे जिस के शराफ़त:

बदन पे जिस के शराफ़त का पैरहन देखा,
वो आदमी भी यहाँ हम ने बद-चलन देखा;

ख़रीदने को जिसे कम थी दौलत-ए-दुनिया,
किसी कबीर की मुट्ठी में वो रतन देखा;

मुझे मिला है वहाँ अपना ही बदन ज़ख़्मी,
कहीं जो तीर से घायल कोई हिरन देखा;

बड़ा न छोटा कोई फ़र्क़ बस नज़र का है,
सभी पे चलते समय एक सा कफ़न देखा;

ज़ुबाँ है और बयाँ और उस का मतलब और,
अजीब आज की दुनिया का व्याकरन देखा;

लुटेरे डाकू भी अपने पे नाज़ करने लगे,
उन्होंने आज जो संतों का आचरन देखा;

जो सादगी है कुहन में हमारे में,
किसी पे और भी क्या ऐसा बाँकपन देखा!
रवा होते-होते एक दिन:

रवा होते-होते एक दिन रवा हो जायेगी,
यादें रह जायेंगीं, जिंदगी हवा हो जायेगी;

परवान तो चढने दो, गम को उरूज तक,
दर्द ही दर्द की, देखना, दवा हो जायेगी;

तुम हर रोज मिलना मुझे, घुंघट में से झांकते,
पुराने जमाने की, ये नयी अदा हो जायेगी;

जरूरी है फांसले मोहब्बत की रस्मों-रिवाज में वरना,
हमसे खता हो जायेगी या तुमसे खता हो जायेगी;

खूबाँ को देखकर, कहते हैं, बस में ठसे हुए मर्द,
दिल में जगाह चाहिए, बैठने को भी जगाह हो जायेगी।
आँखें शराब:

आँखें शराब खाना,
दिल हो गया दीवाना;

नजरों के तीर खा कर,
घायल हुआ जमाना;

भटकेंगी ये तो दर-दर,
नजरों का क्या ठिकाना;

नजरों की कदर करना,
नजरों से ना गिराना;

नज़रों की आब, इज्जत,
इस को सदा बढ़ाना;

शर्म-ओ-हया का जेवर,
नज़रों का है खज़ाना;

नज़रों के दायरे में,
गैरों को ना बसाना;

नज़रों में बंद रखना,
तुम राज-ए-दिल छुपाना!
ज़ख़्मी दिन और रात रहेंगे:

ज़ख़्मी दिन और रात रहेंगे कितने दिन,
दहशत में लम्हात रहेंगे कितने दिन;

हर पतझड़ के बाद है मौसम फूलों का,
ख़ाली अपने हाथ रहेंगे कितने दिन;

कितनी साँसे किस के पास हैं क्या मालूम,
हम तुम दोनों साथ रहेंगे कितने दिन;

पढ़ने वाले चेहरा भी पढ़ लेते हैं,
पोशीदा हालात रहेंगे कितने दिन;

कितने दिन तक वो दिन अपने साथ रहे,
ये दिन अपने साथ रहेंगे कितने-कितने दिन!
इक बेवफ़ा में रुह-ए-वफ़ा ढूंढ़ते रहे:

इक बेवफ़ा में रुह-ए-वफ़ा ढूंढ़ते रहे,
शोलों की बारिशों में सबा ढूंढ़ते रहे;

वो ढूंढ़ते हैं दिल को दुखाने का सिलसिला,
उनकी ख़ुशी में हम तो मज़ा ढूंढ़ते रहे;

वो हैं कि मुस्कुरा रहे हैं चीर के जिगर,
हम हैं कि यार खुद की ख़ता ढूंढ़ते रहे;

घबरा के देखते कभी आकाश की तरफ,
रुख़सत हुई ख़ुशी का पता ढूंढ़ते रहे;

ठहरी हुई नदी में भरे जो रवानगी,
शिद्दत से रात दिन वो अदा ढूंढ़ते रहे।
गम-ए-ज़ज़्बात से घायल:

गम-ए-ज़ज़्बात से घायल, कोई दामन न रह जाये,
बिना खुशियों की फुलवारी के कोई आंगन न रह जाये;

बजाओ इस तरह की धुन, कि हर गैरत के सीने में,
लरजते आंसुओं का शेष कोई सावन न रह जाये;

खताओं के समंदर में न ढूंढो सत्य का मोती,
कहीं जीवन चमन का घट अपावन न रह जाये;

मुक्ति की राह में भक्ति के खंजर इस तरह मारो,
किसी भी शख्स के दुर्व्यसन का साधन न रह जाये;

जलाओ इस तरह से दीप हर जीवन के दरवाजे पे,
उजाले से महरूम, कोई आंगन न रह जाये।
सारी बस्ती में ये जादू नज़र आए मुझको:

सारी बस्ती में ये जादू नज़र आए मुझको,
जो दरीचा भी खुले तू नज़र आए मुझको;

सदियों का रत जगा मेरी रातों में आ गया,
मैं एक हसीन शख्स की बातों में आ गया;

जब तस्सवुर मेरा चुपके से तुझे छू आए,
देर तक अपने बदन से तेरी खुशबू आए;

गुस्ताख हवाओं की शिकायत न किया कर,
उड़ जाए दुपट्टा तो खनक औढ लिया कर;

तुम पूछो और में न बताउ ऐसे तो हालात नहीं,
एक ज़रा सा दिल टूटा है और तो कोई बात नहीं;

रात के सन्नाटे में हमने क्या-क्या धोके खाए है,
अपना ही जब दिल धड़का तो हम समझे वो आए है!
~ Qateel Shifai
मोम के पास कभी:

मोम के पास कभी आग को लाकर देखूँ,
सोचता हूँ कि तुझे हाथ लगा कर देखूँ;

कभी चुपके से चला आऊँ तेरी खिलवत में,
और तुझे तेरी निगाहों से बचा कर देखूँ;

मैंने देखा है ज़माने को शराब पी कर,
दम निकल जाये अगर होश में आकर देखूँ;

दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है,
सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगा कर देखूँ;

तेरे बारे में सुना ये है कि तू सूरज है,
मैं ज़रा थोड़ी देर तेरे साये में आ कर देखूँ;

याद आता है कि पहले भी कई बार यूँ ही,
मैंने सोचा था कि मैं तुझको भुला कर देखूँ।
~ Rahat Indori
हर एक चश्म में जैसे कि एक जहां गुम है,
हर एक दिल में लगे एक दास्तां गुम है;

कहीं तलाश फ़लक की दिखे है सतह-ज़मीं,
कहीं लगे कि ज़मीं से एक आस्मां गुम है;

कहीं मलाल चमन को कि उड़ गए पंछी,
कहीं गुलों को शिकायत कि बाग़बां गुम हैं;

रखेगी याद ये दुनिया यहाँ बस इतना ही,
वहाँ वो कितना मुक़म्मल है, जो जहाँ गुम है;

बढ़ा हुआ सा लगे दायरा ये खोने का,
यह न पूछ किसी से कि वो कहाँ गुम है।
ख्वाहिशें हैं कि तेरे दिल मे उतर जाऊं,
मुद्दतों बाद मैं हद से गुज़र जाऊं;

कतारों में हैं मेरे कई चाहने वाले,
तुम कहो तो मैं सब से मुकर जाऊं;

तुम परेशान हो शायद मेरी हरकतों से,
सोचता हूँ कि अब मैं सुधर जाऊं;

जब भी तुम फूलों सा महकती हो,
दिल करता है कि तुम्हे कुतर जाऊं;

बहूत महीन हो गया है मेरा मुकद्दर,
काश मैं फिर से उभर जाऊं।
Analytics