मछलियों कि तरह मेहमान भी तीन दिन बाद बदबू करने लगते हैं।
~ Benjamin Franklin
Picture SMS 102201
सिर्फ 99 प्रतिशत पुलिस वालों की वजह से बाकी 1 प्रतिशत भी बदनाम हैं।
~ Mushtaq Ahmad Yusufi
Picture SMS 102030
हमारे ज़माने में तरबूज़ इस तरह खरीदा जाता था जैसे आज कल शादी होती है- सिर्फ सूरत देखकर।
~ Mushtaq Ahmad Yusufi
Picture SMS 101997
कुछ लोग इतने मज़हबी होते है कि जूता पसंद करने के लिए भी मस्ज़िद का रुख़ करते हैं।
~ Mushtaq Ahmad Yusufi
Picture SMS 101918
वो ज़हर दे के मारती तो दुनिया की नज़र में आ जाती, अंदाज़-ए-क़त्ल तो देखो - हमसे शादी कर ली।
~ Mushtaq Ahmad Yusufi
Picture SMS 101841
आदमी एक बार प्रोफ़ेसर हो जाए तो ज़िन्दगी भर प्रोफेसर ही रहता है, चाहे बाद में वह समझदारी की बातें ही क्यों न करने लगे।
~ Mushtaq Ahmad Yusufi
Picture SMS 101771
मर्द की आँख और औरत की ज़ुबाँ का दम सब से आख़िर में निकलता है।
~ Mushtaq Ahmad Yusufi
Picture SMS 101663
हास्य टॉनिक है, राहत है, दर्द रोकने वाला है।
~ Charlie Chaplin
Picture SMS 100589
भगवान एक कॉमेडियन हैं जो ऐसे दर्शकों के सामने प्रदर्शन कर रहे हैं जो इतने डरे हुए हैं कि हँस नहीं सकते!
~ Voltaire
Picture SMS 95493
यहाँ तक की देवताओं को भी चुटकुले पसंद हैं!
~ Plato
Picture SMS 95477
Analytics