रोज नहातम देह घिसतम
अर्थात...
रोज नहाने से शरीर घिस जाता है!
Picture SMS 85569
मुँह से धुआं निकलने वाली ठण्ड, पता नहीं कब पड़ेगी।
Picture SMS 85501
जब वैसलीन की एडवरटाइज़मेंट आने लगेंगे,
तब मैं मानूँगा कि ठंड आ गयी!
Picture SMS 85272
सर्दियों में हाथ मिलाने की बजाय राम-राम का उपयोग ज़्यादा करें!
हो सकता है सामने वाले ने नाक साफ़ करके हाथ ना धोए हों!
Picture SMS 85270
आज मैंने स्वेटर पहन लिया,
क्या समाज मुझे स्वीकार करेगा!
Picture SMS 85206
अब तो दीपावली भी देख ली.... कब जाओगी गर्मी!
Picture SMS 85164
हे प्रभु बारिश करवा रहे हो या बॉडी स्प्रे मार रहे हो?
वहाँ ऊपर भी Fogg चल रहा है क्या?
Picture SMS 83246
कुछ तो पढ़ी लिखी होगी ये गर्मी वरना इतनी डिग्री लेकर कौन घूमता है।
Picture SMS 83064
गर्मी का आलम ये है कि मिट्टी का मटका भी आधा पानी गर्मी मारे खुद पी जाता है।
Picture SMS 83054
मानसून ने दस्तक नहीं दी है भाई!
ये तो ऊपर वाले ने गरम तवे पर पानी छिड़का है अब सभी का डोसा बनेगा।
Picture SMS 82928
Analytics