सुबह का मौसम जैसे जन्नत का एहसास, आँखों में नींद और चाय की तलाश;
जागने की मज़बूरी, थोड़ा और सोने की आस;
पर आपका दिन शुभ हो हमारी सुप्रभात के साथ!
Picture SMS 98177
इंसान बुरा उस वक्त बनता है, जब वो खुद को दूसरों से अच्छा मानने लगता है!
सुप्रभात!
Picture SMS 98010
रिशता चाहे कोई भी हो, पासवर्ड एक ही है, "विश्वास"!
सुप्रभात!
Picture SMS 97808
बहुत कुछ ऐसा था जो जीवन की भाग-दौड़ में छोड़ दिया;
फिर मालूम हुआ कि जो छोड़ा था, वो ही जीवन था।
सुप्रभात!
Picture SMS 97364
कितना भी ज्ञानियों के पास बैठ लो तजुर्बा बेवक़ूफ़ होने के बाद ही मिलता है!
सुप्रभात!
Picture SMS 97312
यदि मेहनत आदत बन जाये तो कामयाबी "मुकद्दर" बन जाती है!
सुप्रभात!
Picture SMS 97234
इंसान ख़ुद की नज़र में साफ़ होना चाहिए बाक़ी दुनिया तो भगवान से भी दुखी है!
सुप्रभात!
Picture SMS 97180
मोह में हम बुराइयाँ नहीं देख पाते और घृणा में हम अच्छाइयाँ नहीं देख पाते!
सुप्रभात!
Picture SMS 97119
शब्दों का और सोच का ही अहम किरदार होता है!
कभी हम समझ नहीं पाते हैं और कभी समझा नहीं पाते हैं!
सुप्रभात!
Picture SMS 97088
हे प्रभु ना मैंने तुझे देखा, ना कभी हम मिले,
फिर ऐसा क्या रिश्ता है, दर्द कोई भी हो, याद तेरी ही आती है!
सुप्रभात!
Picture SMS 96462
Analytics