हमारी तो तासीर ही यूँ है तावीजों की तरह;
जिसके भी गले मिलते हैं उसकी बरकत हो जाती है!
Picture SMS 96460
सच के हक़ में खड़ा हुआ जाए;
जुर्म भी है, तो ये किया जाए;
हर मुसाफ़िर को ये शऊर कहाँ;
कब रुका जाए, कब चला जाए!
Picture SMS 95444
रहने दे उधार इक मुलाकात यूँ ही;
सुना है उधार वालों को लोग भुलाया नहीं करते!
Picture SMS 95323
सुना है आज समंदर को बड़ा गुमान आया है,
उधर ही ले चलो कश्ती जहाँ तूफान आया है।
Picture SMS 95281
सच को तमीज़ ही नहीं बात करने की;
झूठ को देखो, कितना मीठा बोलता है।
Picture SMS 95184
एक तेरी ज़िद्द ने हमें किस हाल में ला दिया,
जो जज़्बात सिर्फ़ तेरे लिए थे, उन्हें ज़माना पढ़ रहा है!
Picture SMS 94755
जहाँ कमरों में कैद हो जाती है "जिंदगी",
लोग उसे "बड़ा शहर" कहते हैं!
Picture SMS 91822
वही ज़मीन है वही आसमान वही हम तुम;
सवाल यह है ज़माना बदल गया कैसे!
Picture SMS 88501
वो शायद मतलब से मिलते है;
मुझे तो मिलने से मतलब है!
Picture SMS 88312
रिश्ते बनाना इतना आसान जैसे,
'मिट्टी' पर 'मिट्टी' से "मिट्टी" लिखना;
लेकिन रिश्ते निभाना उतना ही मुश्किल जैसे,
'पानी' पर 'पानी' से "पानी" लिखना!
Picture SMS 88256
Analytics