फलसफा समझो न असरारे सियासत समझो, जिन्दगी सिर्फ हकीक़त है हकीक़त समझो;
जाने किस दिन हो हवायें भी नीलाम यहाँ, आज तो साँस भी लेते हो ग़नीमत समझो।
Picture SMS 98139
जाने वो कैसे मुकद्दर की किताब लिख देता है,
साँसे गिनती की, और ख्वाहिशें बेहिसाब लिख देता है!
Picture SMS 98054
जो किताबों में है वो सब का है,
तू बता तेरा तजरबा क्या है!
~ Nida Fazli
Picture SMS 97806
इक साल गया इक साल नया है आने को;
पर वक़्त का अब भी होश नहीं दीवाने को!
~ Ibn e Insha
Picture SMS 97580
तारीख़ें भी जवान हो रही हैं;
सुना है कैलेंडर को बीसवाँ साल लग रहा है!
Picture SMS 97553
तजुर्बे ने शेरों को खामोश रहना सिखाया है;
क्योंकि दहाड़ कर शिकार नहीं किया जाता!
Picture SMS 97524
इंसान की अकड़ वाजिब है जनाब,
पैसा आने पर तो बटुआ भी फूल जाता है!
Picture SMS 97437
हवा को गुमान था अपने आज़ाद होने का;
किसी ने उसे भी गुबारे में कैद कर बेच दिया।
Picture SMS 97311
वो आज मशहूर हो गए जो कभी काबिल न थे;
और मंजिले उनको मिली जो दौड़ में कभी शामिल न थे!
न इब्तिदा की ख़बर है न इंतिहा मालूम;
रहा ये वहम कि हम हैं सो वो भी क्या मालूम!
Picture SMS 96874
Analytics