लॉकडाउन ख़त्म होने का इंतज़ार सिर्फ आप ही नहीं 'कोरोना' भी कर रहा है!
सतर्कता रखिये और सुरक्षित रहें!
Picture SMS 100245
महफूज़ सारे बादशाह वज़ीर और शहज़ादे हैं;
जो बेघर हैं इस तूफ़ान में वो महज़ पयादे हैं!
Picture SMS 100243
पहले कमाने जाते थे तो ठंडी रोटी मिलती थी!
अब नहीं कमा रहे हैं तो गरमा गरम रोटी मिल रही है!
वाह रे ईश्वर, तेरी माया!
Picture SMS 100195
हाथों को साबुन से 1-2 मिनट रगड़ते समय नल को बंद रखें...
आपको हाथ साफ़ करने हैं, टंकी नहीं!
Picture SMS 100026
लॉकडाउन की कहानी:
25 मार्च से 14 अप्रैल - त्रेतायुग
15 अप्रैल से 3 मई - द्वापर युग
3 मई से ... - कलयुग (मंदिर बंद दारू की दुकान चालू)
Picture SMS 99999
सब ठीक रहा तो इस बार 31 दिसंबर को नया साल आने की नहीं...
यह साल जाने की पार्टी करेंगे!
Picture SMS 99995
कुछ तो खास ही होगा इस कमबख्त शराब में,
वर्ना इतनी लंबी कतार तो 'उसके' दर पे भी नहीं लगती!
Picture SMS 99916
केवल ज़रूरी चीज़ें ही खुलेंगी! स्कूल, कॉलेज बंद रहेंगे!
और हम समझते रहे पढ़ाई ज़रूरी है, लेकिन ज़रूरी तो शराब है!
Picture SMS 99885
कभी सोचा नहीं था, ऐसे भी दिन आएँगें;
छुट्टियाँ तो होंगी पर, मना नहीं पाएँगे।
Picture SMS 99834
वक़्त वक़्त की बात है,
कभी एकांत अच्छा लगता था, अब अपनों की भीड़ देखनो को आँखे तरस गयी हैं!
Picture SMS 99833
Analytics