शोहरत बेशक चुपचाप गुजर जाये;
कम्बख्त बदनामी बड़ा शोर करती है!
Picture SMS 87687
ख़ुद्दारी वजह रही कि ज़माने को कभी हज़म नहीं हुए हम,
पर ख़ुद की नज़रों में, यकीं मानो, कभी कम नहीं हुए हम!
Picture SMS 87412
बड़ी तेज़ है आज, ये ​यादों की शीतलहर;
चलो ​शायरियों​ का ही ​अलाव तापा जाए!
Picture SMS 87361
अब खुद से मिलने को मन करता है;
लोगो से सुना है कि बहुत बुरे है हम!
Picture SMS 87330
शर्म ओ हया का अख़्तियार इतना रहा हम पर;
जिसको चाहा उमर भर, उसी को जता ना सके!
Picture SMS 87289
ज़ायां ना कर अपने अल्फाज किसी के लिए;
खामोश रह कर देख तुझे समझता कौन है!
Picture SMS 87265
लम्हे लम्हे मैं बसी है तुम्हारी यादों की महक;
यह बात और है मेरी नज़रों से दूर हो तुम!
Picture SMS 87211
झट से बदल दूं, इतनी न हैसियत न आदत है मेरी;
रिश्ते हों या लिबास, मैं बरसों चलाता हूँ!
Picture SMS 87117
सब फूल लेकर गए मैं कांटे ही उठा लाया;
पड़े रहते तो किसी अपने के पाँव मे जख्म दे|
Picture SMS 87091
सादगी तो देखो उन नज़रो की;
हमसे बचने की कोशिष में बार बार हमें ही देखती है!
Picture SMS 87062
Analytics