नींद से क्या शिकवा जो आती नहीं रात भर,
कसूर तो उस चेहरे का है जो सोने नहीं देता।
Picture SMS 89942
मैं हूँ अगर आवारा तो वजह है हुस्न तुम्हारा,
ऐसा मैं हरगिज़ नहीं था तेरे दीदार से पहले!
Picture SMS 88030
बड़ी फुर्सत से बनाया है तेरे खुदा ने तुझे;
वरना सुरत तेरी इस कदर ना चाँद से मिलती!
Picture SMS 88009
नसीम-ए-सुबह बू-ए-गुल से क्या इतराती फिरती है,
जरा सूंघ-ए-शमीम-ए-जुल्फ खुश्बू इसको कहते हैं।

1. नसीम-ए-सुबह - सुबह चलने वाली ठंडी और धीमी हवा
2. शमीम - सुगन्ध, खुश्बू, महक
~ Anwar Allahabadi
Picture SMS 84596
इक बार दिखाकर चले जाओ झलक अपनी,
हम जल्वा-ए-पैहम के तलबगार कहाँ हैं।

1. जल्वा-ए-पैहम - लगातार दर्शन
2. तलबगार - ख्वाहिशमंद, मुश्ताक, अभिलाषी
~ Hasrat Mohani
Picture SMS 84444
तेरा चेहरा, तेरी बातें, तेरा गम, तेरी यादें;
इतनी दौलत पहले कहाँ थी पास मेरे!
Picture SMS 83752
मेरे क़त्ल की कोशिश तो उनकी निगाहों ने की थी;
पर अदालत ने उन्हें हथियार मानने से इनकार कर दिया!
Picture SMS 83050
खुशबू तेरी प्यार की मुझे महका जाती है;
तेरी हर बात मुझे बहका जाती है;
साँसे तो बहुत वक्त लेती है आने ओर जाने मै;
हर साँस से पहले तेरी याद इस दिल को धडका जाती है!
आसमान के एक आशियाना में, एक आशियाना हमारा होता;
लोग तुम्हे दूर से देखते, नज़दीक से देखने का हक़ बस हमारा होता!
ख़ुद न छुपा सके वो अपना चेहरा नक़ाब में;
बेवज़ह हमारी आँखों पे इल्ज़ाम लग गया।
Analytics