कुछ अपना अंदाज हैं कुछ मौसम रंगीन हैं,
तारीफ करूँ या चुप रहूँ, जुर्म दोनो ही संगीन हैं!
Picture SMS 95988
कुछ तो चाहत होगी इन बारिश की बूंदों की;
वरना कौन गिरता है इस ज़मीन पे आसमान तक पहुँचने के बाद!
Picture SMS 95935
इन बादलो का मिजाज मेरे मेहबूब से बहुत मिलता है;
कभी टूट के बरसते है, कभी बेरुखी से गुजर जाते है!
Picture SMS 94207
बरसात का मौसम तो गुज़र गया;
आँखों में नमी मगर अब भी है!
Picture SMS 89445
जो ख़ुलूस से मिलता है बरस जाता हूँ;
मैं बरसात का इक बादल आवारा सा हूँ!
Picture SMS 89197
अच्छा-सा कोई मौसम तन्हा-सा कोई आलम;
हर वक़्त का रोना तो बेकार का रोना है।
~ Nida Fazli
Picture SMS 82374
सहम उठते हैं कच्चे मकान, पानी के खौफ़ से;
महलों की आरज़ू ये है कि, बरसात तेज हो!
Picture SMS 78077
तेरे बगैर इस मौसम में वो मजा कहाँ;
काँटों की तरह चुभती है, दिल में बारिश की बूंदे।
ये गुलाबी ठंड, ये हसीन रात और उस पर तौबा तुम्हारी इतनी याद,
सुनो, कभी तो तुम भी यूँ ही हमसे मिलने चले आओ।
मौसम बहुत सर्द है,
चल ऐ दिल कुछ ख्वाहिशों को आग लगाते हैं।
Picture SMS 75212
Analytics