अगर तुम ना होते, तो टूट के बिखर जाते,
गर तुम पास होते, तो इतना भी ना टूटते!
Picture SMS 96911
गज़ब की धूप है इस शहर में फिर भी पता नहीं;
लोगों के दिल यहाँ, पिघलते क्यों नहीं।
Picture SMS 96800
कौन पूछता है पिंजरे में बंद 'परिंदों' को ग़ालिब;
याद वही आते हैं उड़ जाते हैं!
Picture SMS 96737
ख़्वाबों की ज़मीन पर रखा था पाँव छिल गया;
कौन कहता है ख्वाब मखमली होते हैं!
Picture SMS 96718
ये किस अंदाज में तुमने मेरी मोहब्बत का सौदा किया;
ना दूसरों के लायक छोड़ा ना खुद का होने दिया!
Picture SMS 96717
फिर छलावे में हमदर्दों के चोट खाओगे;
किसी को ज़ख्म दिखाए तो सज़ा पाओगे!
Picture SMS 96602
ज़िंदगी सब्र के अलावा कुछ भी नहीं है,
मैंने हर शख़्स को यहाँ ख़ुशियों का इंतजार करते देखा है!
Picture SMS 96566
हादसे इंसान के संग मसखरी करने लगे,
लफ़्ज़ कागज़ पर उतर जादूगरी करने लगे;
क़ामयाबी जिसने पाई उनके घर तो बस गये,
जिनके दिल टूटे वो आशिक़ शायरी करने लगे!
Picture SMS 96543
कुछ कह गए, कुछ सह गए, कुछ कहते कहते रह गए;
मैं सही तुम गलत के खेल में, न जाने कितने रिश्ते ढह गए!
Picture SMS 96520
एक फ़क़त याद है जाना उसका;
और कुछ उसके सिवा याद नहीं!
Analytics