सुना है इस महफिल में शायर बहुत हैं,
कुछ हमें भी सुनाओ, आज हम घायल बहुत हैं!
Picture SMS 91072
तपिश और बढ़ गई इन चंद बूंदों के बाद,
काले स्याह बादल ने भी बस यूँ ही बहलाया मुझे।
Picture SMS 90990
आइने और दिल का बस एक ही फसाना है,
टूट कर एक दिन दोनों को बिखर जाना है।
Picture SMS 90908
शब्द तो यदा-कदा, चुभते ही रहते हैं,
मौन चुभ जाए किसी का तो सम्भल जाना चाहिए!
Picture SMS 90859
दर्द ही दर्द है दिल में बयान कैसे करें,
ज़िंदगी ग़मों की गुलाम रिहा कैसे करें,
यूँ तो हमें हमारे दिल ने धोखे दिए बहुत,
पर अपने दिल से हम दगा कैसे करें।
Picture SMS 90768
रोज एक नई तकलीफ रोज एक नया गम;
ना जाने कब एलान होगा कि मर गए हम!
Picture SMS 90612
क्या फूलों की कतरन से बनें हैं तेरे लब;
थके हैं मेरे होंठ इन्हें आराम चाहिये!
Picture SMS 90487
शिकवे आँखों से गिर पड़े वरना;
होठों से शिकायत कब की हमने!
Picture SMS 90437
मैं एक शब्द हूँ कागज़ पर बिखरा हुआ;
तुम विरह की एक अंतहीन कविता हो!
Picture SMS 90411
जख्म नया क्या दोगे;
पुराना ही खुरच दो न!
Picture SMS 90330
Analytics