पतझड़ की कहानियाँ सुना सुना के उदास ना कर,
नए मौसमों का पता बता, जो गुज़र गया सो गुज़र गया!
~ Bashir Badr
Picture SMS 93103
कुछ इस तरह अपने दिल को बेवकूफ बनाता हूँ मैं;
कि तुमसे बिछड़ते वक़्त भी खुल के मुस्कुराता हूँ मैं।
Picture SMS 93065
पानी पानी कर गयी मुझको कलंदर की वो बात;
तू झुका जो ग़ैर के आगे न तन तेरा न मन तेरा!
~ Allama Iqbal
Picture SMS 93013
ऐसा नहीं देखा कहीं हाल किसी और का;
पहलू में कोई और ख्याल और किसी का!
Picture SMS 92987
मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब;
यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी!
~ Mirza Ghalib
Picture SMS 92880
कैसे एक लफ्ज़ में बयां कर दूँ;
दिल को किस बात ने उदास किया!
Picture SMS 92730
गिरते हुऐ "अश्क" की "कीमत" "न" पूछना;
इश्क़" के हर बूंद में "लाखों" "सवाल" होते हैं!
Picture SMS 92410
शर्मिंदा होंगे, जाने भी दो इम्तिहान को;
रखेगा तुम को कौन अज़ीज़, अपनी जान से!
~ Mir Taqi Mir
Picture SMS 92131
इतना दर्द तो मुझे मरने से भी नही होगा;
जितना दर्द तुम्हारी खामोशी ने दिया है!
Picture SMS 91979
हम तो फूलों की तरह, अपनी आदत से बेबस हैं;
तोडने वाले को भी, खुशबू की सजा देते हैं!
Picture SMS 91978
Analytics