दिल से रुख़स्त हुई कोई ख़्वाहिश;
गिर्या कुछ बे-सबब नहीं आता!

Rukhsat, रुख़स्त: Departing
Giryaa, गिर्या: Tears, Crying
Be-Sabab, बे-सबब: Without any cause
~ Meer Taqi Meer
Picture SMS 85666
जी में क्या-क्या है अपने ऐ हम-दम;
पर सुखन ता-बलब नहीं आता!
~ Meer Taqi Meer
Picture SMS 85636
चलो बाँट लेते हैं अपनी सज़ायें;
न तुम याद आओ न हम याद आयें!
~ Sardar Anjum
Picture SMS 85589
दिल में किसी के राह किए जा रहा हूँ मैं;
कितना हसीं गुनाह किए जा रहा हूँ मैं!
Picture SMS 85566
दिल के लिए हयात का पैगाम बन गयीं;
बैचैनियाँ सिमट के तेरा नाम बन गयीं!

हयात = जिन्दगी, जीवन
Picture SMS 85492
दिल गया रौनक़-ए-हयात गई;
ग़म गया सारी क़ायनात गई!

हयात = ज़िन्दगी
Picture SMS 85474
रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए;
दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए!
~ Zia Jalandhari
Picture SMS 85430
दर्द-ओ-ग़म दिल की तबियत बन गए;
अब यहाँ आराम ही आराम है!
Picture SMS 85429
दर्द आँखों से निकला तो सबने बोला कायर है ये,
जब दर्द लफ़्ज़ों से निकला तो सब बोले शायर है ये।
Picture SMS 85402
जरा तमीज़ से बटोरना बुझे दियों को दोस्तों,
इन्होंने कल अमावस की अन्धेरी रात में हमें रौशनी दी थी;
किसी और को जलाकर खुश होना अलग बात है,
इन्होंने तो ख़ुद को जलाकर हमें ख़ुशी दी थी।
Picture SMS 85307
Analytics