अगर एहसास बयां हो जाते लफ्जों से;
तो फिर कौन तारीफ करता खामोशियों की!
Picture SMS 88870
ठहाके छोड़ आये हैं अपने कच्चे घरों में हम;
रिवाज़ इन पक्के मकानों में बस मुस्कुराने का है!
Picture SMS 88801
कुछ यूं हो रहा है आजकल रिश्तों में विस्तार;
जितना जिस से मतलब उतना उस से प्यार!
Picture SMS 88774
मसला तो सिर्फ एहसासों का है, जनाब;
रिश्ते तो बिना मिले भी सदियां गुजार देते हैं!
Picture SMS 88746
दुनिया देखते देखते कितनी बेगैरत हो गयी;
हम जरा सा क्या बदले, सबको हैरत हो गयी!
Picture SMS 88690
सफर-ए-जिन्दगी मेँ जब कोई, मुश्किल मकाम आया;
ना गैरोँ ने तवज्जो दी, ना अपना कोई काम आया!
Picture SMS 88669
मुझसे नहीं कटती अब ये उदास रातें;
कल सूरज से कहूँगा मुझे साथ लेकर डूबे!
Picture SMS 88644
कुछ बात है की हस्ती मिटती नहीं हमारी;
सदियों रहा है दुश्मन दौरे -जमाँ हमारा!
Picture SMS 88557
वक्त-वक्त की बात है;
कल जो रंग थे, आज दाग हो गये।
Picture SMS 88439
जरुरी नहीं है कुछ तोड़ने के लिए पत्थर ही मारा जाए;
अंदाज बदल कर बोलने से भी बहुत कुछ टूट जाता है!
Picture SMS 88339
Analytics