जुबाँ न भी बोले तो, मुश्किल नहीं;
फिक्र तब होती है जब, खामोशी भी बोलना छोड़ दें|
Picture SMS 92109
मसरूफ़ हैं यहाँ लोग, दूसरों की कहानियाँ जानने में,
इतनी शिद्दत से ख़ुद को अगर पढ़ते, तो ख़ुद़ा हो जाते|
Picture SMS 92035
अच्छा है तुम्हारा दिल जो खवाबोे में मान जाता है;
एक कम्बक्त हमारा दिल है की रूबरू होने को तड़पता है।
Picture SMS 91957
मुझको पढ़ पाना हर किसी के लिए मुमकिन नहीं;
मै वो किताब हूँ जिसमे शब्दों की जगह जज्बात लिखे है।
Picture SMS 91884
मेरे शहर में खुदाओं की कमी नहीं,
दिक्कत मुझे इंसान ढूँढने में होती है।
Picture SMS 91860
बेशक महसूस नहीं होती, तुम्हें नजदीकिया मेरी,
मगर फिर भी मेरी आंखों ने, हर रोज तुम्हें छुआ हैं करीब से!
Picture SMS 91649
क्यों कोशिश करते हो दिल-ए-नादान सबको खुश रखने की;
यहा कुछ लोगों की नाराजगी भी जरुरी होती है चर्चे में बने रहने के लिए!
Picture SMS 91590
नाकाम हुए हम दोनों बहुत ही बुरी तरह से;
तुम हमें चाह ना सके और हम तुम्हें भूला ना सके!
Picture SMS 91561
जलने और जलाने का बस इतना सा फलसफा है `साहिब`;
फिक्र में होते है तो, खुद जलते हैं, बेफ़िक्र होते हैं तो दुनिया जलती है!
Picture SMS 91538
मेरे शहर में खुदाओं की कमी नहीं,
दिक्कत मुझे इंसान ढूँढने में होती है।
Picture SMS 91364
Analytics