अगर मुस्कुराहट के लिए ईश्वर का शुक्रिया नहीं किया,
तो आँखों मे आये आँसुओं के लिये शिकायत का हक़ कैसा!
Picture SMS 91073
तुम समझते हो कि जीने की तलब है मुझको,
मैं तो इस आस में ज़िंदा हूँ कि मरना कब है।
Picture SMS 91038
धूप लगती थी गाँव में मगर चुभती नहीं थी;
ऐ शहर तेरी छांव ने भी पसीने निकाल दिए!
Picture SMS 90944
मिलता ही नही तुम्हारे जैसा कोई और इस शहर मै,
हमे क्या मालूम था कि तुम एक हो और वो भी किसी और के!
Picture SMS 90909
किसको क्या मिले इसका कोई हिसाब नहीं;
तेरे पास रूह नहीं मेरे पास लिबास नहीं!
Picture SMS 90815
उम्र भर मिलने नहीं देती हैं अब तो रंजिशें;
वक़्त हम से रूठ जाने की अदा तक ले गया!
Picture SMS 90725
किसको बर्दाश्त है "साहब" तरक़्क़ी आजकल दूसरों की;
लोग तो अर्थी की भीड़ देखकर भी जल जाते है!
Picture SMS 90653
अपनी यादों को मिटाना बहुत कठिन है,
अपने गम को भूल जाना बहुत कठिन है।
जब राहे-मयखानों पर चलते हैं कदम,
होश में लौट कर आना बहुत कठिन है।
Picture SMS 90511
मैं तो इस वास्ते चुप हूँ की तमाशा ना बने,
और तू समझता है मुझे तुझसे कोई गिला नहीं!
Picture SMS 90436
शिकवे आँखों से गिर पड़े वरना;
होठों से शिकायत कब की हमने !
Picture SMS 90304
Analytics