हमसे खेलती रही दुनिया ताश के पत्तों की तरह,
जिसने जीता उसने भी फेंका और जो हारा उसने भी फेंका!
Picture SMS 96873
करो फिर से कोई वादा कभी न बिछड़ने का,
तुम्हें क्या फर्क पड़ता है फिर से मुकर जाना!
Picture SMS 96764
अभी तो साथ चलना है, समंदर की मुसाफत में,
किनारे पर ही देखेंगे, किनारा कौन करता है।
Picture SMS 96695
तोड़ दे मेरे दिल को पर इसे अपने पास तो रख;
मुझे खुद से दूर ना कर मेरे मरने तक मुझे साथ तो रख!
Picture SMS 96618
एक दिन भी ना निभा सकेंगे मेरा किरदार;
वो लोग जो मुझे मशवरे हजार देते हैं!
Picture SMS 96565
दुनिया की क्या मजाल देता हमें कोई फरेब;
अपनी ही आरजू के हुए हम शिकार हैं!
Picture SMS 96486
रेत पर नाम लिखते नहीं क्योंकि रेत पर लिखे नाम कभी टिकते नहीं;
लोग कहते हैं पत्थर दिल हैं हम लेकिन पत्थरों पर लिखे नाम कभी मिटते नहीं!
Picture SMS 96459
नफरतों के शहर में चालाकियों के डेरे हैं!
यहाँ वो लोग रहते हैं जो तेरे मुँह पर तेरे हैं और मेरे मुँह पर मेरे हैं!
Picture SMS 96368
करता नहीं है कोई कद्र यहाँ किसी के अहसासों की;
हर किसी को फिक्र है बस मतलब के ताल्लुक़ातो की!
Picture SMS 96337
करता नही है कोई कद्र यहाँ किसी के अहसासों की;
हर किसी को फिक्र है बस मतलब के ताल्लुक़ातो की!
Picture SMS 96295
Analytics