दिल की बस्ती अजीब बस्ती है;
लूटने वाले को तरसती है।
~ Allama Iqbal
Picture SMS 82807
मैं अकेला ही चला था जानिबे-मंजिल मगर;
लोग आते गए और कारवां बनता गया।
~ Majrooh Sultanpuri
Picture SMS 82790
आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक;
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक।

Meaning:
सर - सुलझाना
~ Mirza Ghalib
Picture SMS 82769
अपनी गली में मुझ को न कर दफ़्न बाद-ए-क़त्ल;
मेरे पते से ख़ल्क़ को क्यों तेरा घर मिले।
~ Mirza Ghalib
Picture SMS 82688
दुनिया करे सवाल तो हम क्या जवाब दें;
तुमको ना हो ख्याल तो हम क्या जवाब दें।
~ Majrooh Sultanpuri
Picture SMS 82663
बस-कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना;
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना।
~ Mirza Ghalib
Picture SMS 82612
सजा कैसी मिली मुझको तुमसे दिल लगाने की;
रोना ही पड़ा है जब कोशिश की मुस्कुराने की;
कौन बनेगा यहाँ मेरी दर्द-भरी रातों का हमराज;
दर्द ही मिला जो तुमने कोशिश की आजमाने की।
Picture SMS 82470
कहाँ वह खल्वतें दिन-रात की और अब यह आलम है;
कि जब मिलते हैं दिल कहता है, कोई तीसरा होता।

अर्थ:
1. खल्वतें - एकान्त, जहाँ दूसरा न हो, तन्हाई
2.आलम - हालत, दशा, स्थिति
~ Firaq Gorakhpuri
Picture SMS 82325
कारगाहे-हयात में ऐ दोस्त यह हकीकत मुझे नजर आई;
हर उजाले में तीरगी देखी, हर अंधेरे में रौशनी पाई।

Meaning:
1. कारगाहे - कार्यालय, कार्य करने का स्थान
2. तीरगी - अंधेरा, अँधियारा।
~ Jigar Moradabadi
Picture SMS 82240
तुम्हीं पे मरता है ये दिल, अदावत क्यों नहीं करता;
कई जन्मों से बंदी है, बगावत क्यों नहीं करता;
कभी तुमसे थी जो, वो ही शिकायत है ज़माने से;
मेरी तारीफ़ करता है, मोहब्बत क्यों नहीं करता।
~ Dr. Kumar Vishwas
Picture SMS 82233
Analytics