जिंदगी जैसे जलानी थी वैसे जला दी हमने गालिब;
अब धुएँ पर बहस कैसी और राख पर ऐतराज कैसा!
Picture SMS 91758
कागज की कश्ती में सवार है हम;
फिर भी कल के लिये, परेशान है हम!
Picture SMS 91648
हौंसलों का सबूत देना था किसी को;
इसलिए ठोकरें खा के भी मुस्कुरा पड़े!
Picture SMS 91485
बड़े महँगे किरदार है ज़िंदगी में, जनाब;
समय समय पर सबके भाव बढ़ जाते हैं!
Picture SMS 91445
बड़े महँगे किरदार है ज़िंदगी में, जनाब;
समय समय पर सबके भाव बढ़ जाते हैं!
Picture SMS 91365
ज़िंदगी जब जख्म पर दे जख्म तो हँसकर हमें,
आजमाइश की हदों को आजमाना चाहिए।
जिंदगी बस यूँ ही खत्म होती रही,
जरुरतें सुलगी, ख्वाहिशें धुँआ होती रहीं!
Picture SMS 91154
अब मौत से कह दो कि नाराज़गी खत्म कर ले,
वो बदल गया है जिसके लिए हम ज़िंदा!
Picture SMS 90945
रूठी जो जिदंगी तो मना लेंगे हम,
मिले जो गम वो भी सह लेंगे हम,
बस आप रहना हमेशा साथ हमारे तो,
निकलते हुए आंसुओं में भी मुस्कुरा लेंगे हम।
Picture SMS 90279
न रुकी वक़्त की गर्दिश और न ज़माना बदला;
पेड़ सूखा तो परिन्दों ने भी ठिकाना बदला!
Picture SMS 89707
Analytics