UC Inside, World in hand. Click Here
वो मेरे लिए चार दिन की चांदनी थी और इन्ही चार दिनों में मुझे उसकी गांड मारनी थी।
Picture SMS 92434
सच्चे प्यार में आँखें गीली होती हैं और झूठे प्यार में चड्डियाँ!
Picture SMS 92397
एक झलक काफी है, दिल का मरीज़ बनाने के लिए;
तू इतनी बड़ी सलवार पहनती है, एक छोटी सी चीज़ छुपाने के लिए।
Picture SMS 92396
जब हवस की प्रचंडता, शिखर पर होती है...
तो इस बात से फ़र्क नहीं पड़ता कि, लंड चूत में है या तकिये में!
Picture SMS 92376
हथेली में खुजली चले तो समझो खुजली का रोग हुआ है, पैसा नहीं आता।
पैसा आने के लिये गांड फडवा मेहनत करनी पडती है। खुजाने से पैसा आता तो टट्टे सोने के हो जाते अब तक।
मैंने उनसे कहा मुझे तुम्हारे दिल में जाना है, रास्ता बता दो!
वो कमबख्त टाँगे फैला के लेट गयी!
तुम गुजार ही लोगे जिंदगी, हर फन में माहिर हो;










पर मुझे तो कुछ भी नहीं आता, तुम्हे चोदने के अलावा!
Picture SMS 89006
अब इसमें मेरी कहां गलती है बताओ..










तरबूज़ वाली को बोला फांक थोड़ी चेोड़ी करके दिखाओ... अंदर से लाल है क्या? देखनी है!
फेंक के मारा बहन की लौड़ी ने!
Picture SMS 89005
जैसे सुहागन महिला बिना सिंदूर के अधूरी रहती है...
.
.
.
.
.
.
ठीक वैसे ही ट्रेनें बिना गुप्त रोग और वशीकरण के विज्ञापन के बगेर अधूरी हैं!
Picture SMS 88369
इस गर्मी में अपने झांटों पर नवरत्न तेल लगाइये और...
अपनी हवस को ठंडक पहुंचाइये!
Picture SMS 88172
Analytics