Accelerate Downloads, Install Free Browser
चूतिये चार तरह के होते हैं...

1) नस्लन: ये चूतिये केवल इसलिये चूतिये होते हैं, क्योंकि इनके बाप भी अपने समय के बहुत बड़े चूतिया थे।

2) मसलन: ये वो होते हैं, जिनकी मिसालें दी जाती हैं।

3) शक्लन: यह वो वाले होते हैं, जिनको सिर्फ शक्ल से ही पहचान लिया जाता है। बाकी टेस्ट की जरूरत ही नहीं पड़ती।

4) बकलन: ये वो स्पेशल वैराइटी होती है, जो हर तरह से समझदार लगते हैं; लेकिन एकाएक कुछ ऐसा बोल या कर देते हैं, कि इनको भी चूतिया मानना ही पड़ता है।
एक पागल रोज कहता था - गुलेल बनाउंगा, कबूतर मारूंगा तो उसका इलाज शुरू किया गया!

6 महीने के इलाज के बाद -

डाक्टर: अब क्या करोगे?

पागल: शादी करूंगा!

डाक्टर: गुड, फिर?

पागल: सुहागरात मनाऊंगा!

डाक्टर: अच्छा कैसे?

पागल: उसकी साड़ी उतारूंगा!

डाक्टर: बहुत बढ़िया, फिर?

पागल: उसका ब्लाउज उतारूंगा!

डाक्टर: फिर?

पागल: उसकी ब्रा उतारूंगा!

डाक्टर: बहुत अच्छा, फिर?

पागल: फिर क्या उसकी ब्रा की इलास्टिक से गुलेल बनाऊंगा, और कबूतर मारूंगा!

डाक्टर: मादरचोद! दोबारा एडमिट करो इसको!
Analytics