एक दिन एक कंजूस के घर उसके सात आठ दोस्त, जो खुद भी उसके जैसे ही कंजूस थे, मेहमान बनकर आ गए!

कंजूस की बीवी बोली, "घर मे चीनी नहीं है, चाय कैसे बनाऊँ? जल्दी से जाकर ले आइये!"

कंजूस ने कहा, "चिंता मत करो... तुम सिर्फ चाय बनाकर ले आओ, बाकी सब मैं संभाल लूंगा।"

निर्देशानुसार बीवी चाय बनाकर ले आई। सभी दोस्तों से कंजूस बोला, "देखो भाई! जिसके हिस्से में फीकी चाय आएगी, कल हम सब उसके घर मेहमान बनकर खाने के लिए आएंगे!"

सभी दोस्तों ने खुशी-खुशी चाय पी ली! एक ने तो यहाँ तक कह डाला, "मेरी चाय में तो इतनी चीनी है कि डर है कहीं मुझे डायबिटीज ना हो जाए"!
एक डाकू ने एक मकान में डाका डाला, घर के सारे गहने, पैसे एक जगह पर इकठ्ठा करने के बाद उसने मकान मालिक के सामने एक बड़ा सा छूरा निकालते हूए कहा, "चल जल्दी से बोल, बाकि माल कहाँ छुपा रखा है, नहीं तो इस छूरे से तेरे कान काट दूंगा!"

मकान मालिक ने कहा, "साहब मुझ पर रहम करो मैं बहुत गरीब आदमी हूँ, मेरे पास यही सामान है और कुछ नहीं है!"

डाकू ने फिर से कहा, "मैं तीन तक गिनता हूँ, नहीं तो मैं तेरे कान काट दूंगा!"

मकान मालिक बोला, "लो तिजोरी की चाबी ले लो साहब, लेकिन मेरे कान ना काटो, नहीं तो मैं अंधा हो जाऊंगा!"

डाकू आश्चर्यचकित होकर बोला, "कान काटने के बाद तू ज्यादा से ज्यादा बहरा हो सकता है लेकिन अंधा कैसे होगा?"
v मकान मालिक बोला, "साहब कान काटने के बाद मैं अपना चश्मा कैसे पहनूंगा!"
Analytics