एक भाई ने अपनी पत्नी को सुबह 9 बजे से बैंक की लाइन में खड़ा करवा दिया और खुद ऑफिस चला गया!

शाम को जब वापस आया तो पत्नी बोली, "धूप में खड़े-खड़े दो बजे बैंक के दरवाजे में घुसी और तीन बजे कैशियर के सामने पहुँची, मुझे खड़ा कर वो चाय पीने चला गया!"

आधे घण्टे बाद आया और कंप्यूटर पर बैठ कर बोला, "सॉरी मैम पैसे नहीं हैं! आपकी कसम मुँह मिर्ची खाये जैसा हो गया, मेरे तो तन-बदन में आग सी लग गई, सारे दिन रोई परेशान हुई! घर का सारा काम छोड़ कर भूखी-प्यासी इतनी देर खड़ी-खड़ी पाँव तोड़े और आखिर में यह जवाब? पैसे नहीं हैं!"

पति गुस्सा करता हुआ बोला, "और तुम पागलों जैसी यूँ ही आ गयी? उनका कुछ नहीं कर पायी? मुझ पर तो आज तक 15 बेलन तोड़ चुकी हो कम से कम! एक बेलन उन पर तोड़ आती उनको भी तो कुछ मालूम पड़ता!"

पत्नी बहुत ही धीरज से बोली, "बेलन तो आज एक और टूटेगा! पैसा बैंक में नहीं... तुम्हारे खाते में नहीं था!"
1. घड़ी चौबीस घंटे टिक-टिक करती रहती है और पत्नी चौबीस घंटे चिक-चिक करती रहती है।

2. घड़ी की सूइयाँ घूम-फिर कर वहीं आ जाती हैं और उसी प्रकार पत्नी को आप कितना भी समझा लो, वो घूम-फिर कर वहीं आ जायेगी और अपनी ही बात मनवायेगी।

3. घड़ी में जब 12 बजते हैं तो तीनों सूइयाँ एक दिखाई देती हैं, लेकिन पत्नी के जब 12 बजते हैं तो एक पत्नी भी 6-6 दिखाई देती है।

4. घड़ी के अलार्म बजने का फिक्स टाइम है लेकिन पत्नी के अलार्म बजने का कोई फिक्स टाइम नहीं है।

5. घड़ी बिगड़ जाये तो रूक जाती है लेकिन जब पत्नी बिगड़ जाये तो शुरू हो जाती है।

6. घड़ी बिगड़ जाये तो मैकेनिक के यहाँ जाती है पत्नी बिगड़ जाये तो मायके जाती है।

7. घड़ी को चार्ज करने के लिये सेल(बैटरी) का प्रयोग होता है और पत्नी को चार्ज करने के लिये सैलेरी का प्रयोग होता है।

8. लेकिन सबसे बड़ा अंतर ये कि घड़ी को जब आपका दिल चाहे बदल सकते हैं मगर पत्नी को चाह कर भी बदल नहीं सकते उल्टा पत्नी के हिसाब से आपको खुद को बदलना पड़ता है।
Analytics