एक भरपूर काला आदमी जुकाम की शिकायत लेकर डाक्टर के पास गया. डाक्टर ने उसे सरसरी निगाह से देखकर कहा कि वो अपने कपडे उतार दे और दोनों हाथों को जमीन पर टिका दे!

आदमी हैरान परेशान पर उसने यह किया!

ठीक है-डाक्टर बोला.. ' अब जानवरों की तरह चलिए, और कमरे के दायें कोने में जाए..

आदमी ने यही किया..

ठीक' - डाक्टर साब बोले- अब बाएँ कोने में जाएँ..

बंदा उधर चला गया!

अब इस कोने में, अब उस कोने में, अब सामने, अब बीच में..

आदमी घबरा के उठ खड़ा हुआ ...' डाक्टर साब, कोई गंभीर बीमारी तो नहीं हो गयी मुझे?

अरे नहीं- डॉ साब बोले.. मामूली जुकाम है, ये दो गोली लो सुबह तक ठीक हो जाओगे..

पर डॉ साब आपने ये मेरा एक घंटे तक इस तरह परीक्षण...

कुछ नहीं यार'- डॉ साब बोले.. बात यह है कि मैंने एक काले रंग का सोफा ख़रीदा है,मैं देखना चाहता था इस कमरे में वो किस जगह ठीक दिखेगा!
सोचो अगर डॉक्टर फिल्म बनाते तो फिल्मों के नाम क्या होते?

कभी खांसी कभी जुखाम।

कहो न बुखार है।

टीबी नंबर 1।

हम ब्लड दे चुके सनम।

रहना है अब हॉस्पिटल में।

बचना अय मरीजों।

दिल तो कमजोर है।

एक हसीना दो किडनी।

अजब मरीजों की गजब बीमारी।
Analytics